THE CURRENT SCENARIO

add

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

सोमवार, 13 अप्रैल 2020

Uttar Pradesh

गोला कोतवाल डीपी तिवारी ने प्राइवेट अस्पताल की भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ने से बचाया पीड़ित को

केंद्र और प्राइवेट अस्पताल की मिली भगत से फैल रहा भ्रष्टाचार

एस.पी.तिवारी/पवन सक्सेना
गोला गोकर्णनाथ-खीरी,13 April 2020
।पूरा मामला जिला लखीमपुर खीरी की तहसील गोला गोकर्णनाथ लखीमपुर रोड स्थित शिव हॉस्पिटल का है जहां पीड़ित बदरे आलम निवासी खम्हौल  की माने तो वह अपनी पत्नी शाहिना को 9 अप्रैल 2020 को शाम 5 बजे डिलीवरी करवाने के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गोला से लेकर आया लेकिन सुबह 2 बजे तक उसकी बीवी दर्द से बिलखती रही लेकिन कोई भी केंद्र का कर्मचारी नहीं आया।इस मौके का फायदा उठाते हुए साथ की आशा बहू जो कि पीड़िता के साथ शुरु से लगी हुई थी उसने  पीड़िता  के पति बदरे आलम को बहला फुसलाकर शिव हॉस्पिटल में लाने के लिए तैयार किया और आनन-फानन में शिव हॉस्पिटल के कर्मचारियों को मय वाहन के बुलवा लिया।आपको बताते चलें कि पीड़ित बदरे आलम के द्वारा आशा बहू व शिव हॉस्पिटल के कर्मचारी से खर्चे के बारे में पूछा तो अस्पताल ने कर्मचारियों ने अंधेरे में रखते हुए नॉर्मल डिलीवरी का लगभग 7 से 8000 के खर्चे के बारे में बताया।
इस पर बदरे आलम ने सामने कोई और विकल्प ना होने की वजह से अस्पताल की प्राइवेट गाड़ी में बैठा कर अपनी पत्नी शाहिना को चल दिया। लेकिन जब डिलीवरी के लिए पीड़ित की पत्नी को अंदर ले जाया गया उसी समय बदरे आलम से कहा गया कि 14000 रुपए और देने होंगे और साथ मे 4500 रूपये दवाई का प्लस बेड चार्ज अलग से देना होगा।बदरे आलम ने 6500 रुपये तो अस्पताल में पहले से जमा कर ही दिए थे। लेकिन बाद में बताए गए पैसे का विरोध किया तो इस पर अस्पताल वालों ने अभद्र व्यवहार करते हुए पुलिस को बुलाकर बंद करवाने की धमकी दी।जिस पर पीड़ित बदरे आलम ने अपनी फरियाद गोला कोतवाल डी.पी तिवारी को सुनाई इस पर कोतवाल डीपी तिवारी ने तुरंत ही सख्त एक्शन में आते हुए पीड़ित बदरे आलम के मामले को संज्ञान में लेकर शिव हॉस्पिटल पहुंचे। जिसका असर यह हुआ कि अस्पताल वालों ने तुरंत ही बदरे आलम की बीवी साइना को डिस्चार्ज कर दिया और कोई भी नाजायज पैसा नहीं लिया। इस पर पीड़ित बदरे आलम ने कोतवाल डी.पी तिवारी का बहुत-बहुत धन्यवाद दिया और उनके इस कार्य की सराहना पीड़ित के पूरे परिवार ने की।