THE CURRENT SCENARIO

add

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

शुक्रवार, 15 नवंबर 2019

The silence of Palestinian jialis missiles ravaged two-thirds of Israel's death, the Israelis are cursing Netanyahu on the assassination of the commander of Islami!

फ़िलिस्तीनी जियालों के मिसाइलों की बरसात से दो तिहाई इस्राईल में छा गया मौत का सन्नाटा, इस्लामी के कमांडर की हत्या पर नेतनयाहू को कोस रहे हैं इस्राईली!

15-Nov-2019
Sajjad Ali Nayani 
 फ़िलिस्तीनी संगठन इस्लामी की ओर से इस्राईल पर मिसाइलों की बरसात ने ज़ायोनी बस्तियों के निवासियों ही नहीं बल्कि जनरलों और विशेषज्ञों को भी हैरत में डाल दिया है।इस्राईल के हेब्रू भाषा के चैनल 13 ने जानकार सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इस्राईल पर हो रही मिसाइलों की बारिश में हमास संगठन शामिल नहीं है अर्थात अकेले जेहादे इस्लामी ही इस्राईल के अलग अलग इलाक़ों में जनजीवन ठप्प कर देने में सफल हो गया है। तेल अबीब तथा दक्षिणी इलाक़े पूरी तरह असुरक्षित हो चुके हैं। 10 लाख ज़ायोनी छात्र और विद्यार्थी लगातार दूसरे दिन भी स्कूल कालेज नहीं जा सके।
www.thecurrenyscenario.com

फ़िलिस्तीनी मामलों के विशेषज्ञ सेफ़ी यहज़कीईली ने बताया कि जेहादे इस्लामी संगठन की मिसाइल ताक़त देखकर इस्राईली जनरलों को अचंभा हुआ है क्योंकि उन्हें यह आशा नहीं थी कि जेहादे इस्लामी के पास इतनी बड़ी संख्या में मिसाइल मौजूद हैं। रिपोर्ट लिखे जाने तक जेहादे इस्लामी ने इस्राईली इलाक़ों पर 200 से अधिक मिसाइल फ़ायर किए थे। यानी इतने समय में तो हमास ने भी उस वक्त़ इतने मिसाइल फ़ायर नहीं किए थे जब इस्राईल ने हमास के कमांडर शहीद अहमद अलजअबरी को शहीद किया था। हमास के उस हमले से इस्राईल में हड़कंप मच गया था और इस्राईली प्रधानमंत्री नेतनयाहू ने मिस्र से संपर्क करके अनुरोध किया था कि वह हमास के साथ संघर्ष  विराम करवा दे क्योंकि इस्राईल युद्ध नहीं चाहता।


इस बार जेहादे इस्लामी ने मंगलवार की सुबह से अब तक ज़ायोनी बस्तियों पर 200 से अधिक मिसाइल और मार्टर गोले फ़ायर किए हैं।
सामरिक मामलों के विशेषज्ञ आलून बिन डेविड ने भी इस्राईल के चैनल 13 से बातचीत में कहा कि जेहादे इस्लामी के पास हैफ़ा तक पहुंचने वाले मिसाइल हैं अर्थात इनकी रेंज 120 किलोमीटर तक है मगर यह मिसाइल अभी उसने प्रयोग नहीं किए हैं।

इस्राईल के भीतर इस बात पर लोग प्रधानमंत्री नेतनयाहू को कोस रहे हैं कि वह चुनावी और राजनैतिक फ़ायदे के चक्कर में फ़िलिस्तीनी संगठनों से लड़ाई मोल ले रहे हैं और सारे इस्राईलियों को मुसीबत में डाल रहे हैं।