THE CURRENT SCENARIO

add

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

शनिवार, 16 नवंबर 2019

Continuation of US threat to ban, now it's Egypt's turn

 प्रतिबंध लगाने की अमरीकी धमकी का सिलसिला जारी, अबकी बार मिस्र की बारी

16-Nov-2019
Friday World
Sajjad Ali Nayani
अमरीका ने तुर्की के बाद अब मिस्र को कड़े प्रतिबंधों की धमकी दी है।अमरीका ने मिस्र को चेतावनी दी है कि अगर उसने रूस से Sukhoi Su-35 युद्धक विमान ख़रीदने की बात आगे बढ़ाई तो उसे कड़े प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा।
www.thecurrentscenario.com
वाॅल स्ट्रीट जरनल के अनुसार अमरीका के विदेशमंत्री माइक पोम्पियो ने मिस्र के विदेशमंत्री मुहम्मद ज़की को एक धमकी भरा पत्र भेजा है।  अमरीका की ओर से भेजे गए इस पत्र में कहा गया है कि मिस्र ने यदि रूस से Sukhoi Su-35 युद्धक विमान ख़रीदने पर रोक नहीं लगाई तो फिर वाशिग्टन, क़ाहिरा के विरुद्ध कड़े प्रतिबंध लगा देगा।  रूसी समाचारपत्र  Kommersant ने कुछ समय पहले लिखा था कि Sukhoi Su-35 युद्धक विमानों की ख़रीद को लेकर मिस्र और रूस में 2018 को एक समझौते पर हस्ताक्षर हो चुके हैं जिसके आधार पर 2020-2021 में Sukhoi Su-35 युद्धक विमान, मिस्र को दिये जाएंगे।
उल्लेखनीय है कि इससे पहले अमरीका, तुर्की को भी धमकी दे चुका है कि अगर उसने रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम ख़रीदा तो वाशिग्टन से एफ-35 युद्धक विमानों की ख़रीदारी को रद्द कर दिया जाएगा।
तुर्की के राष्ट्रपति ने स्पष्ट कर दिया है कि अमरीकी पेट्रियाट मिसाइल के कारण हम किसी भी स्थिति में रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम ख़रीदना नहीं छोड़ेंगे।
इतारतास न्यूज़ एजेन्सी के अनुसार रजब तैयब अर्दोग़ान ने इस अमरीकी प्रस्ताव को रद्द कर दिया है कि अंकारा को पेट्रियाट सिस्टम हासिल करने के लिए पहले रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम ख़रीदने का फैसला बदलना होगा।  तुर्की के राष्ट्रपति ने इस अमरकी प्रस्ताव का विरोध करते हुए कहा है कि वे हर हालत में रूसी मिसाइल सिस्टम ख़रीदेंगे।  उन्होंने कहा कि रूस का एस-400 सिस्टम, तुर्की के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।  अर्दोग़ान का कहना था कि तुर्की अपनी रक्षा क्षमता को बढ़ाना चाहता है।
इससे पहले तु्र्की के विदेशमंत्री चावूश ओग़लू भी कह चुके हैं कि रूस के एस-400 सिस्टम की ख़रीदारी का उद्देश्य, हवाई हमलों के मुक़ाबले में तुर्की की रक्षा क्षमता को मज़बूत करना है।  ज्ञात रहे कि सन 2017 में तुर्की तथा रूस के बीच होेने वाले समझौते के अनुसार अंकारा, माॅस्को से ढाई अरब डाॅलर मूल्य के चार एस-400 मिसाइल सिस्टम ख़रीदेगा।  अमरीका कई बार तुर्की को धमकी दे चुका है कि रूस से इस मिसाइल सिस्टम की ख़रीदारी की स्थिति में अंकारा को अमरीकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है।