THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Wednesday, June 17, 2020

TCS

जनपद की शान : डा. रूपाली सिंह

सजंय सिंह
सुल्तानपुर,17 June 2020
रूस के प्रथम अन्तरिक्ष यात्री यूरी गागरिन के पैतृक शहर स्मोलेन्स में स्थित स्मोलेन्स स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी से रूपाली सिंह ने चिकित्सा विज्ञान में उच्च शिक्षा प्राप्त करते हुए ‘डाक्टर ऑफ मेडिसिन’ की उपाधि प्राप्त की है। बचपन से ही चिकित्सा विज्ञान और शूटिंग में रूचि रखने वाली रूपाली सिंह का जन्म एकीकृत जनपद सुलतानपुर एवं वर्तमान में अमेठी के कल्याणपुर गांव के एक अति साधारण परिवार में हुआ है।
www.thecurrentscenario.com
तीन पीढि़यों से यह परिवार सेना में अपनी सेवा देता रहा है। आज भी इनके एक भाई अजय प्रताप सिंह सेना में अपनी सेवा दे रहे हैं। रूपाली की प्रारम्भ से लेकर माध्यमिक स्तर तक की शिक्षा जिले के प्रतिष्ठित के.एन.आई.सी.ई. स्कूल से हुई है। इस शिक्षा के दौरान ये राज्य स्तर की पिस्टल शूटर भी रही हैं। चिकित्सा विज्ञान की शिक्षा एवं शूटिंग जैसे खेल की प्रेरणा इनको अपने बाबा स्वर्गीय बद्री सिंह से मिली, जो कि द्वितीय विश्वयुद्ध योद्धा थे। इनके पिता डॉ. विजय प्रताप सिंह कमला नेहरू इन्स्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेन्ट एण्ड टेक्नोलॉजी, सुलतानपुर में प्राचार्य है जो डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय, अयोध्या का एक प्रतिष्ठित महाविद्यालय है एवं माता श्रीमती पुष्पा सिंह केएनआईएमटी, सुलतानपुर में बी.एड. विभाग में प्राध्यापक हैं।
www.thecurrentscenario.com
सैन्य सेवा की अपनी पारिवारिक परम्परा से अभिप्रेरित डा. रूपाली सिंह भी भारतीय सैन्य सेवा में जाकर देश की चिकित्सा सेवा करना अपना भावी उद्देश्य बताती हैं तथा कैप्टन मनोज पाण्डेय के राष्ट्रप्रेम और सर्वोच्च बलिदान को अपना आदर्श मानती है। चिकित्सा शास्त्र के अतिरिक्त उनकी सबसे पसंदीदा पुस्तकों में ‘हीरो ऑफ बटालिक- कैप्टन मनोज पाण्डेय’, कारगिल के परमवीर- कैप्टन विक्रम बत्रा, अन्टोल्ड स्टोरी ऑॅफ वार, चन्द्रशेखर आजाद व स्वामी विवेकानन्द की आत्मकथा तथा भगत सिंह की जेल डायरी है।

स्मोलेन्स स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी में चिकित्सा विज्ञान के उच्च अध्ययन ने डा. वीटा ‘प्रोफेसर- प्रसूति विज्ञान’ तथा मेडिसिन की प्रोफेसर डा. एलीना तसपोवा को अपना आदर्श गुरू मानती हैं और उनके चिकित्सा व्यवहार को अपने लिए प्रेरणादायी बताती है।

डा. रूपाली सिंह की इस उपलब्धि पर कमला नेहरू संस्थान के प्रबन्धक श्री विनोद सिंह ‘पूर्व मंत्री- उत्तर प्रदेश सरकार’ ने अपनी शुभकामना देते हुए समाज के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन निःस्वार्थ भाव से करते रहने का आशीर्वाद प्रदान कर उज्ज्वल भविष्य की मंगलकामना की है। संस्थान के बर्सर अनिल कुमार सिंह, कार्यालय अधीक्षक अनिल सिंह, विधि विभाग की डॉ. वन्दना सिंह तथा उनके शुभचिन्तक अभिषेक पाण्डेय ने अपनी शुभकामनाऐं दी हैं डॉ. विजय प्रताप सिंह प्राचार्य

केएनआईएमटी, सुलतानपुर