THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Friday, June 12, 2020

TCS

केले के खेत की सिचाई कर रहे किसान की बिजली के चपेट में आने से मौत

मृतक किसान केले और बागवानी की खेती कर क्षेत्र में एक मिसाल कायम की थी

बेटी के हाथ पीले करने का सपना रह गया अधूरा

संजय सिंह
सेमरी बाजार,12 June 2020
जयसिंहपुर कोतवाली क्षेत्र के सेमरी बाजार पुलिस चौकी के अंतर्गत महमूदपुर सेमरी में शुक्रवार की सुबह करीब 9 बजे अशोक पाण्डेय पुत्र दयाराम पांडेय उम्र करीब 60 वर्ष अपने केले के खेत की सिंचाई करने के लिए अपने घर से नाश्ता कर गए थे
अशोक पाण्डेय केले की खेती कई वर्षों से करते चले आ रहे है जो शुक्रवार को सेमरी इंडियन गैस एजेंसी के पीछे स्थित केले की खेती की सिंचाई करने गये और जब दोपहर तक घर खाना खाने घर नही आये तो उनके पुत्र प्रकाश चंद्र पांडेय खाने के लिए बुलाने गया तो देखा कि अशोक पाण्डेय विजली के केबल पर सीने के बल बेहोश पड़े हुए है किंतु उस समय विद्युत सप्लाई चालू नहीं थी विद्युत सप्लाई जबकि 10:30बजे के करीब बन्द हो गयी थी  प्रकाश चंद्र को समझते देर न लगी कि जब विद्युत सप्लाई चल रही थी उसी समय पिता विद्युत की चपेट में आकर केबल पर गिर पड़े होंगे। आनन फानन में अशोक पांडेय के परिजनों ने उन्हें इलाज के लिए सेमरी बाजार में एक प्राइवेट क्लिनिक पर ले गए जहां पर चिकित्सक ने बताया कि इनकी सांसे अब थम चुकी है इलाज का कोई फायदा नही है किंतु परिजनों  को संतुष्टि नही हुई तो इलाज के लिए जिले के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में ले गए जहां पर चिकित्सक ने उन्हें मृत ही घोषित कर दिया जहां से परिजन शव को लेकर घर वापस चले आये।

अशोक पांडेय की मौत की सूचना घर पहुंचते ही घर मे कोहराम मच गया और चीखने चिल्लाने की आवाज को सुनकर उनके घर ग्रामीणों की भारी भीड़ जमा होने लगी ।

विदित हो कि  अशोक पाण्डेय केले की खेती और बागवानी कई वर्षों से करते चले आ रहे थे और इसी से अपने परिवार को पाल रहे थे अशोक पांडेय अपने पीछे दो पुत्र दीपचंद्र व प्रकाश चंद्र  व और चार पुत्रियों को छोड़ गए  वही पत्नी उर्मिला का रो रोकर बुरा हाल है।अशोक पांडेय को अभी एक पुत्र और एक पुत्री की शादी करने का सपना अधूरा रह गया।
बेटी मंजू की शादी आने वाले दिसम्बर महीने में तय हुई थी उसी के शादी की तैयारी में अभी से ही ये अपनी बागवानी और केले की अच्छी उपज लेकर बेटी की शादी को बड़े धूमधाम से हाथ पीले करने का सपना अपनी आंखों में संजोये लगातर कड़ी मेहनत कर रहे थे किंतु होनी को कौन टाल सकता है पांडेय का बेटी के हाथ पीले करने का सपना अधूरा ही रह गया। अशोक पांडेय की आकस्मिक मौत से पूरे गांव में मातम छाया हुआ है ।