THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Sunday, June 14, 2020

TCS

चुनाव के समय विकास कार्यो के किये गये वादे निकले हवा हवाई


सोनू पान्डेय/चमन सिंह राणा
निघासन-खीरी,14 June 2020
निघासन क्षेत्र वैसे भी विकास के मामले में अत्यंत पिछड़ा इलाका है यहां नेताओ द्वारा दिखावा ज्यादा और धरातल पर काम कम होता है ।सदैव से ही नेता क्षेत्र में जनता के बीच पहुँचते है भाषण के दौरान अनेको हवाहवाई झूठे वादे करते है और विजयरथ पर सवार होने के बाद अपने पुराने वादों को भूलकर सत्ता के गलियारों में मौज काटने लगते है ।
www.thecurrentscenario.com
ऐसे ही कई सारे वादे गुजरे 25 सालो के भीतर नेताओ ने किए लेकिन पूरे एकाध ही हुए बाकी सब आधे अधूरे पड़े हुए है ।इन्ही झूठे वादों में सबसे शुमारित वादा पचपेड़ी घाट पुल का है जो आज भी चुनावी मुद्दा बनकर जनता के दिमाग को भटकाता रहता है ।
वहीं निघासन झण्डी रोड पर बना मुंसिफ कोर्ट बनकर तो तैयार हो गया पर शुरुआत होने की राँह ताक रहा है।जबकि मुंसिफ कोर्ट का निर्माण कार्य गुजरे चार वर्ष पूर्व हो चुका पर आज भी मुवक्किलों के आने की राँह कोर्ट की दीवारें तांक रही है। इन्ही दो वादों में से एक पोस्टमार्टम हाउस का वादा दिखावे में पूरा हो गया लेकिन वो भी लंबी चौड़ी नेतागिरी धड में लटका हुआ है।25 सालों में हुकूमतें आई और चली गई क्षेत्र की समस्या जस की तस बनी हुई है । चुनाव के दौरान ऐसे सैकड़ो वादे जनप्रतिनिधियों ने निघासनवासियो से किए थे पर निघासन के लोगों का दुर्भाग्य है कि कई वादों में से एक सिर्फ निघासन नगर पंचायत का दर्जा ही हाथ लगा और जनता से जुड़ा एक भी मुद्दा नेताओ ने पूरा नही कराया है जो अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है ।लंबे चौड़े निघासन क्षेत्र में एक मात्र पीएम हाउस बना हुआ है जिसके ना शुरू होने से क्षेत्र के लोग खासा दिक्कते उठाकर  मृतक व्यक्ति के शव को निघासन से जिला मुख्यालय ले जाते है और कभी कभार शव वाहन ना मिलने से लोग शव को ट्रैक्टर ट्राली में लेकर लखीमपुर पहुँचते है,कभी डेडबॉडी सीएचसी के किसी कोने में घंटो पड़ी रहती है।इन्ही अनेको समस्याओं को देखते हुए पोस्टमार्टम हाउस का निर्माण कार्य पूरा हो गया और क्षेत्र के लोगों की आंखों में उम्मीद की नई किरण जगमगाई लेकिन आज भी पोस्टमार्टम हाउस को शुरू करवाने में नेता कतरा रहे है ।जिसका फायदा उठाकर विपक्षी नेता भी मौजूदा सरकार के जनप्रतिनिधि,नेताओ को घेरने लगे है।