THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Sunday, June 21, 2020

TCS

पति देश के दुश्मनों से देश की रक्षा में तल्लीन पत्नी व पुत्री पर पड़ोसियों का कहर


पाँच वर्ष से लगातार सताया जा रहा सी आर पी एफ जवान के पत्नी व बच्चों को

बार शिकायत के बाद भी जनपद पुलिस बनी अनजान पड़ोसी बना भस्मासुर

संजय सिंह
सुल्तानपुर,21 June 2020
देश की सीमा पर तनाव होता है तो सेना व अर्द्ध सैनिक बलों के जवान जान की बाजी लगा देते है। उसके बदले सरकारें उनकी पूरी सुरक्षा की जिम्मेदारी लेती है। लेकिन यहां ऐसा नही है। बॉर्डर से दुश्मनों से लड़ना आसान लेकिन पड़ोसियों की ज्यादती से पार पाना मुश्किल हो गया है।
www.thecurrentscenario.com
शहर के नारायणपुर मुहल्ले में जम्मू कश्मीर में तैनात एक जवान का परिवार पिछले 5 वर्षों से दबंगों का कहर झेल रहा है। जवान की पत्नी पुलिस चौकी कोतवाली पुलिस अधीक्षक से लेकर महिला आयोग तक चक्कर लगा चुकी है।
लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। उसने एसपी के निदान व्हाट्सएप नंबर पर भी शिकायत दर्ज कराई है। लेकिन वहाँ से कोई मदद नही मिली। इस नंबर का जवाब हैरान कर देने वाला है। दो दिन पहले अमेठी में तो दबंगों से तंग एक सैनिक धरने पर बैठ आंसू बहा रहा था। यहां तो पलायन की स्थिति आ गयी है।
जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ में राजकुमार तिवारी तैनात हैं। उनका परिवार पयागीपुर क्षेत्र के नारायणपुर जाने वाली रोड पर पर नारायणपुर मोहल्ले में रहता है। परिवार में पत्नी प्रीति और 12 साल की बच्ची पलक है। पुत्र आलोक हरियाणा के रेवाड़ी जिले में सैनिक स्कूल में पढ़ता है। मार्च में वह घर आया था तभी से वह लॉकडाउन लगने की वजह से  माँ व बहन के साथ ही है ।।
प्रीति शिकायती पत्र के अनुसार उसके पड़ोसी प्रभु नारायण मिश्रा पिछले 5 वर्षों से उसे और उसके परिवार को अकेला जानकर परेशान कर रहे हैं। क्योंकि वह अपनी पुत्री पलक के साथ घर में अकेली रहती है। इसलिए प्रभु नारायण से डरती रहती है। पड़ोसी के लड़के उद्दंड है जो आए दिन अश्लील हरकतें करते है व अपशब्दों का प्रयोग भी करते  रहते हैं। यहां तक की घर में पथराव भी करते हैं।

प्रीति के अनुसार पड़ोसी ने अपनी ओर से उनकी दीवाल को धक्का देकर तोड़ दिया। नालियां भी तोड़ देते हैं। घर में पथराव भी करते हैं। शनिवार की शाम उनकी पुत्री पलक साइकिल चला रही थी तो पड़ोसी के लड़के उससे भिड़ गए। जब प्रीति ने विरोध किया तो गाली गलौज करने लगे। रात में उनके घर पर कंकर पत्थर फेंके गए, जिससे पूरा परिवार भयभीत है।

पहले ही टेस्ट में फेल दिखा `निदान`

रविवार को प्रीति ने `निदान` व्हाट्सएप नंबर पर अपनी शिकायत दर्ज कराई तो जो जबाब मिला वह हैरान कर देने वाला है। इस नंबर की देखरेख कर रहे पुलिसकर्मियों को यह भी नहीं पता चला कि शिकायतकर्ता पुरुष है कि स्त्री। यहां जवाब मिला कि श्रीमान जी अपना प्रार्थना पत्र लेकर आएं। जबकि पुलिस अधीक्षक शिवहरी मीणा ने यह दावा किया था कि ऑपरेशन निदान से कागज की बचत होगी और कोरोना से भी बचाव होगा। इसलिए शिकायतकर्ता को घर से बाहर आने की जरूरत नहीं है। इस संबंध में नगर कोतवाल से बात करने का कई बार प्रयास किया गया लेकिन बात नहीं हो सकी।