THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Thursday, June 25, 2020

Burhanpur

कहानी सच्ची है

आत्मनिर्भर व सशक्त मध्य प्रदेश बनाने का छोटा सा प्रयास
स्थानीय प्रवासी श्रमिकों ने मध्य प्रदेश सरकार को दिया धन्यवाद

ब्यूरोचीफ मेहलका अंसारी
बुरहानपुर,25 June 2020
उल्लेखनीय है कि वर्तमान समय में संपूर्ण विश्व सहित भारत देश भी कोरोना वैश्विक महामारी से लड़ रहा है। जिसके नियंत्रण एवं बचाव के संबंध में लगातार नवाचार किये जा रहे है। ऐसी विकट परिस्थितियों में भी भारत का हृदय प्रदेश कहलाने वाले मध्य प्रदेश राज्य के लोगों के हितों को प्राथमिकता देने वाली शिवराज सरकार ने जरूरतमंदों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के विषय पर पैनी नजर रखकर प्राथमिकता दी है।
मध्य प्रदेश शासन द्वारा प्रारंभ किया गया रोजगार सेतु पोर्टल जो पूर्णतः निःशुल्क है, के माध्यम से प्रवासी श्रमिकों को मध्य प्रदेश में ही रोजगार स्थानीय कारखानें, निर्माण कार्यो, व्यवसायी संस्थानों में आसानी से एवं निःशुल्क उपलब्ध कराने का प्रयास किया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाना है। रोजगार सेतु अभियान के तहत प्रवासी श्रमिकों को उनके कौशल व दक्षता अनुसार रोजगार उपलब्ध कराने के लिए यह अभियान मध्य प्रदेश शासन द्वारा संचालित है।
जिले बुरहानपुर में रोजगार सेतु पोर्टल के माध्यम से पंजीकृत श्रमिकों जो कोरोना वायरस कें संक्रमण के कारण लॉकडाउन की स्थिति में दूसरे राज्यों से लौेंटे हुए, जिनमें विभिन्न राज्यों महाराष्ट्र तथा गुजरात इत्यादि राज्यों से बुरहानपुर जिले में आये हुए प्रवासी श्रमिक शामिल है। जिले में अब तक रोजगार सेतु पोर्टल के माध्यम से 5362 प्रवासी श्रमिकों द्वारा पंजीयन कराया गया जिसमें पुरूष प्रवासी श्रमिक 3644, तथा 1718 प्रवासी महिला श्रमिक शामिल है। प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन में जिले की रैकिंग 37 दर्ज है। जिले में कुल पंजीकृत नियोजक 885 है जिसमें जिले की रैकिंग चौथी है। मनरेगा में नियोजित प्रवासी श्रमिकों का प्रतिशत 99 प्रतिशत है। 
इन्हें कौशल एवं दक्षतानुसार रोजगार उपलब्ध कराये जा रहे है। जिले में खकनार विकासखण्ड के ग्राम पंचायत दाहिन्दा में अलग-अलग क्षेत्र में प्रारंभ मनरेगा के तहत किये जा रहे कार्यो में इन श्रमिकों को रोजगार मिला है। इनसे चर्चा करने पर श्रमिकों द्वारा बताया गया कि शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लिया गया यह निर्णय हम जैसे लोगों के लिए मदद्गार साबित हो रहा है।
श्रमिकों द्वारा बताया गया कि, कोरोना संक्रमण के चलते एवं रोजगार के अभाव में पारिवारिक स्थिति खराब हो रही थी, साथ ही मानसिक तनाव बढ़ रहा था। रोजगार मिलने से एक नई उमंग एवं चेतना का प्रसार हुआ है।

www.thecurrentscenario.com