THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Friday, May 8, 2020

TCS

भारतीय मौसम विभाग के समाचार में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के साथ अब गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद भी शामिल


विक्रम सेन
नई दिल्ली08 May 2020
भारतीय मौसम विभाग के प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के क्षेत्रों को भी अब अपने मौसम पूर्वानुमान में शामिल कर लिया है। एक जानकारी के अनुसार मौसम विभाग के अधिकारियों ने इस आशय की जानकारी दी।
www.thecurrentscenario.com
मुजफ्फराबाद, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) का हिस्सा है, जबकि गिलगित-बाल्टिस्तान के इलाके पर पाकिस्तान का गैर-कानूनी कब्जा है। नई दिल्ली स्थित मौसम विभाग द्वारा जारी उत्तर पश्चिमी भारत के लिए डेली फोरकास्ट में मंगलवार से नामों में बदलाव दिखाई देने लगा है।
रोजाना जारी होने वाले रीजन-वाइज फोरकास्ट पूरे सब डिविजन के लिए है, न कि किसी विशेष एरिया के लिए।
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, मौसम विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने पुष्टि की कि नामों में बदलाव किया गया है।
भारतीय मौसम विभाग का यह कदम न केवल एक अलग केंद्र शासित प्रदेश के रूप में लद्दाख की बदली हुई स्थिति को दर्शाता है बल्कि एक महत्वपूर्ण संदेश भी देता है।
ज्ञातव्य हो कि पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने हाल के अपने आदेश में 2018 के गवर्नमेंट ऑफ गिलगित बाल्टिस्तान ऑर्डर में संशोधन की इजाजत दे दी ताकि क्षेत्र में आम चुनाव कराए जा सकें। इस पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि गिलगित- बाल्टिस्तान सहित पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग हैं और पाकिस्तान को अपने अवैध कब्जे से इन क्षेत्रों को तुरंत मुक्त कर देना चाहिए।
प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि भारतीय मौसम विभाग ने गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद के लिये भी पूर्वानुमान जारी करना प्रारंभ किया है जो अभी पाकिस्तान के कब्जे वाला इलाका है । इस संबंध में पूर्वानुमान जम्मू कश्मीर मौसम विज्ञान उप मंडल के तहत 5 मई से जारी किया जा रहा है।
इस घटनाक्रम का महत्व ऐसे समय में काफी बढ़ जाता है जब भारत ने हाल ही एक बार फिर स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि पीओके भारत का हिस्सा है। इसमें गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद शामिल है।इन शहरों के लिये मौसम पूर्वानुमान जारी करना तब शुरू किया गया है जब कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने गिलगिट बाल्टिस्तान में चुनाव की अनुमति दी थी । भारत ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी ।
सूत्रों ने बताया, चूंकि पीओके के तहत इन शहरों के लिये दैनिक राष्ट्रीय मौसम बुलेटिन और पूर्वानुमान व्यक्त किया जाता है, तो इसका उल्लेख प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र में भी किया जाना चाहिए ।