THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Wednesday, May 13, 2020

TCS

जालसाजी करने वाले संजय कुमार गुप्ता के विरुद्ध जिला खनिज अधिकारी ने की रिपोर्ट

रहीम शेरानी
अलिराजपुर,13 May 2020
कलेक्टर कार्यालय (खनिज शाखा) अलीराजपुर के नाम से नकली सील लगाकर खनिज अधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर कर प्रमाण पत्र बनाने का पर्दाफ़ाश होने के बाद भी खुलेआम घूम रहे ब्लैक लिस्टेड जाल साज ठेकेदार संजय गुप्ता के खिलाफ 12 मई को दोपहर क़रीब दो बजे अलीराजपुर पुलिस थाने में एफआईआर हो गई हैं।
संजय कुमार गुप्ता पर आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471, 472 व 474 के अंतर्गत पंजीयन किया गया हैं।
www.thecurrentscenario.com
विस्तृत जानकारी के अनुसार जाल साज ठेकेदार संजय गुप्ता ने महाप्रबंधक ग्रामीण सड़क प्राधिकरण कार्यालय आलीराजपुर में 10 फरवरी 2020 को अपने हस्तलिखित पत्र के साथ कलेक्टर कार्यालय खनिज शाखा के नाम से जावक क्रमांक 872 दिनाँक 7 फरवरी 2020 का फ़र्जी प्रमाण-पत्र पेश कर लाखों की रायल्टी राशी हड़पने की साजिश की थी।
परंतु महाप्रबंधक सड़क प्राधिकरण द्वारा खनिज अधिकारी से रायल्टी के संबंध में पुष्टि हेतु जानकारी चाही गई, तब  खनिज अधिकारी द्वारा पूर्ण जाँच के बाद "कलेक्टर कार्यालय खनिज शाखा'' से उक्त जारी 'बकाया नही' का प्रमाण-पत्र फर्जी पाया था।
www.thecurrentscenario.com
 तब खनिज अधिकारी ने महाप्रबंधक सड़क प्राधिकरण अलीराजपुर को जावक पत्र क्रमांक 161/ दिनाँक 16/03/2020 के सूचना लेख में उपरोक्त सहित अन्य सनसनीखेज जानकारी देते हुए फर्जी प्रमाण-पत्र बनाने वाले संजय गुप्ता के खिलाफ कानूनी कार्यवाही यानी प्रकरण दर्ज करने हेतु लिखा है।
 चूँकि अपराध जिला कलेक्टर कार्यालय (खनिज शाखा) के नाम से घटित किया गया था,  इस संगीन अपराध के दोषी संजय कुमार गुप्ता पर जिला खनिज अधिकारी अशोक सिंगारे ने आलीराजपुर पुलिस थाने पर एफआईआर दर्ज कराई हैं।
www.thecurrentscenario.com
विदित हो कि पूर्व में कई प्रशासनिक अधिकारीयो द्वारा संजय गुप्ता के खिलाफ की गई शिकायतों की जाँच में सिध्द दोष पाए जाने के बाद भी इस पर कोई कार्यवाही नही हुई थी।
इससे इसका दुस्साहस बढ़ता गया और इसी के चलते भारत सरकार के आदेश पर देश भर में लागू आपदा कानून व लॉक डाउन की सरेआम धज्जियाँ उड़ाते हुए श्री पंचेश्वर मंदिर में दो दिन पूर्व ही आयोजन कर दिया था। लॉक डाउन के दौरान आपदा कानून का सरेआम उल्लंघन करने के बाद बाकायदा इसने समाचार भी छपवाये।
और दो दिन बाद भी बाकायदा सिद्ध अपराध करने के बाद भी 'आपदा कानून' के तहत आयोजक संजय कुमार गुप्ता व इसके अन्य सहयोगीयो पर कोई कार्यवाही नहीं हुई थी।
www.thecurrentscenario.com
विदित हो कि पूरे देश में तीसरी बार लॉकडाउन बढ़ा दिया है। लॉकडाउन 3. बढ़ने से 17 मई तक देश में धार्मिक स्थल बंद रहना तय है, जिसे खोलने की परमिशन भारत सरकार या प्रदेश सरकार ने नही दी हैं।
वही लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही देश भर में आपदा प्रबंधन एक्ट 2005 की 10 धाराए भी लागू है। बावजूद इसके 10 मई 2020 को संजय गुप्ता व अन्य आयोजको ने आलीराजपुर के प्राचीन मंदिर श्री पंचेश्वर मंदिर में बाकायदा आयोजन किया, आयोजन बाकायदा मंदिर में किया गया, जबकि इस मंदिर संकुल के बाहर लाखों वर्गफीट खाली भूमि मौजूद हैं।
पूरे देश मे किसी मन्दिर में सार्वजनिक आयोजन का शायद यह पहला अपराध हैं।

संजय कुमार गुप्ता की इस नियमित आपराधिक दुस्सहासिकता के पीछे का कारण यह था कि वह अपने हर अपराध को करने के बाद तिकड़मों से बच जाता था, पर जब इसने श्री पवन पुत्र व्यायाम शाला भवन तोड़कर श्री पवनपुत्र हनुमान जी भगवान के मंदिर को इसने भक्तो से वीरान करने का भी अपराध किया हैं।
इस शातिर अपराधी संजय गुप्ता के खिलाफ पूर्व में किये गए पर छुपे हुए अपराधो की शिकायते की जाने पर अलीराजपुर जिले के राजस्व विभाग, नपा परिषद, जिला पंजीयक अधिकारीयो ने भी इसके कच्चे चिट्ठो की पूर्ण जाँच करने के बाद संजय गुप्ता की अनेक संगीन आपराधिक भागीदारी का खुलासा आधिकारिक रूप से किया है।
कलेक्टर कार्यालय ( खनिज विभाग) व सड़क विकास प्राधिकरण के साथ हुई जालसाज़ी का भंडाफोड़ होते ही अन्य संगीन अपराधों में भी शामिल संजय गुप्ता और सरकारी भूमि हड़पने वाले ओछ्ब लाल के खिलाफ अन्य मुकदमें भी आगामी समय मे कायम होना तय हैं।
जो कुछ इस प्रकार से हैं।
विगत समय मे संजय कुमार गुप्ता पिता नारायण गुप्ता द्वारा द्वारा अलीराजपुर ज़िला मुख्यालय की करोड़ो रूपये मूल्य की सरकारी जमीन की रजिस्ट्री अपने सहयोगी अपराधी ओछ्ब लाल के साथ मिल कर रजिस्ट्री करा ली हैं, वह भी जमीन के कोई भी प्रमाण पत्र या दस्तावेज लगाए बिना। इसे नपा परिषद और पंजीयन विभाग ने अपनी जाँच रिपोर्ट में सिद्ध किया हैं
आलीराजपुर जिला मुख्यालय पर शासकीय नदी पर अवैध पुलिया बना कर दसियों करोड़ की राजस्व भूमि व चरोगर की भूमि पर इसने अपने साथी ओछ्ब लाल के साथ मिलकर कॉलोनी का निर्माण कर लिया, इस हेतु तीन तीन शासकीय सर्वे की भूमि पर कब्जा कर उसे बेचने हेतु पक्का निर्माण कर लिया। इस पूरे मामले में राजस्व विभाग व नपा परिषद आलीराजपुर की जाँच में सारे आरोप सिद्ध हो चुके हैं, पूरी धांधली का खुलासा महीनों पहले हो चुका हैं।
प्रताप ब्रिज के पास स्थित शासकीय भूमि के बगीचे को नष्ट कर दिया। इस स्थल पर कई शिकायत के बाद भी अवैध निर्माण कर दिया।
 इसके साथ ही संजय गुप्ता ने इस बगीचे में लगभग पचास वर्ष पूर्व सरकार द्वारा निर्मित स्वन्त्रता सेनानियों की स्मृति में स्मारक का रंग तक बदल दिया था।
बेहद शातिर किस्म का अपराधी संजय गुप्ता अपने सहयोगी आका ओछ्ब लाल के साथ मिलकर एक सामाजिक संगठन का पदाधिकारी भी बन बैठा था, और राजस्व विभाग की करोड़ो की भूमि हड़पने की साज़िश को अंजाम देने में कई तिकड़मों का सहारा ले रहा था। इसी तिकड़म के तहत इस जालसाज ने आलीराजपुर शहर में पचासों वर्ष से निःशुल्क संचालित हो रही श्री पवनपुत्र व्यायाम शाला भवन को तुड़वा कर अन्य कार्यों के लिए भवन बनाने का झांसा देकर कई जरूरतमंद तत्वों को अपने साथ कर लिया था और ओछ्ब लाल व उसकी अवैध सल्तनत बचाने हेतु इन सहयोगीयो के  सहारे वह जुलूस, ज्ञापन आदि दिया करता था, तथा प्रशासन पर दबाव बनाता था। यह नक्शे बनाने के काम भी करता था और इसने श्री पवनपुत्र व्यायाम शाला की अस्थायी बाउंड्री वाल का काम रुकवाकर एक फ़र्जी नक्शा जारी कर लोगो को बरगलाता था, की यँहा व्यावसायिक काम्प्लेक्स का निर्माण कर रहे हैं, अतः इन्हें यँहा पुनः व्यायाम शाला नही बनाने देना हैं। प्रशासन द्वारा संजय गुप्ता के खिलाफ प्रभावी दंड की कार्यवाही शुरू करने से आमजन काफ़ी खुश हैं।