THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Sunday, May 10, 2020

TCS

रेलवे स्टेशन मेघनगर में लगातार आ रही है श्रमिक को को लेकर स्पेशल ट्रेने


रहीम शेरानी
झाबुआ,10 May 2020
मेघनगर रेलवे स्टेशन पर गुजरात के जूनागढ़ से आज तीसरी  एक्सप्रेस ट्रेन श्रमिक को लेकर सुबह 7.15 बजे पहुंची।
इस ट्रेन में कुल 1205 यात्रीसवार होकर आये जिनमें 1033 श्रमिक व 172 बच्चे शामिल थे।
ट्रेन के रेलवे स्टेशन पर पहुंचने के बाद रेलवे द्वारा आवश्यक सूचनाऐं प्रसारित की गई।
www.thecurrentscenario.com
इसके बाद एक एक करके सभी कोच खोले गये।
सभी यात्रियों को मेडिकल टीम द्वारा जांच करने के बाद प्लेटफार्म नं तीन के परिसर में भेजा गया।
यहाँ यात्रियों को लेने के लिए बड़वानी,नीमच,आलीराजपुर, भिंड व सीहोर जिले से बसे पहले से ही तैयार खड़ी थी।
नगर परिषद के अमले द्वारा यात्रियों का सामान ट्रेन से उतारकर बसों तक पहुंचाया गया।
www.thecurrentscenario.com
रविवार को सुबह 7:15 बजे पहुंची इस श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन की सभी सवारियों को 9:00 बजे तक स्क्रीनिंग करके बसों में बिठा दिया गया।
www.thecurrentscenario.com
 सक्रिय अनुविभागीय अधिकारी श्री पराग जैन ट्रेन आने के पहले से ही रेलवे स्टेशन पर सारी व्यवस्थाओ पर नजर रखे हुए थे। क्षेत्रीय विधायक वीरसिंग भूरिया ने भी प्लेटफॉर्म पर पहुंचकर सभी यात्रियों का स्वागत किया तथा स्टेशन परिसर के बाहर सभी सुविधाओं का जायजा लिया एवं कई आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए नई दुनिया अखबार में शनिवार को प्रकाशित हुई खबर  का अवलोकन किया इस अवसर पर एस डी ओपी थांदला मनोहरलाल गवली, मेघनगर थाना प्रभारी कौशल्या चौहान, नगर परिषद के राजा टांक, शासकीय अस्पताल के बीएमओ डॉक्टर शैलेक्षी वर्मा अपने स्टाफ के साथ पूरे समय मौजूद रहे।
www.thecurrentscenario.com
मेघनगर के नागरिको के साथ आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में भय का वातावरण
मेघनगर रेलवे स्टेशन पर प्रतिदिन आ रही अन्य राज्यों की ट्रेन के श्रमिकों के यहां उतरने से यहां के निवासियों एवं आसपास के ग्रामीण अंचलों के लोगों में भय युक्त वातावरण बन गया है
ग्राम फुट तालाब के बाबू धाक का कहना है कि मेघनगर में अन्य जिलों के मजदूरों को लाकर यहां से रवाना किया जाना ठीक नहीं है क्योंकि अलीराजपुर जिले में भी ट्रेन भेजी जा सकती थी।
समाजसेवी अशोक छाजेड़ व भारतीय पत्रकार संघ के प्रदेश संयोजक एडवोकेट सलीम शेरानी का कहना है कि बड़वानी एवं अलीराजपुर जिले के श्रमिकों को मेघनगर की बजाय अलीराजपुर जिले के रेलवे स्टेशन पर ट्रेन द्वारा भेजा जा सकता था जिससे यहां के निवासियों को बेवजह परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता।
अन्य विकल्प के रूप में रेलवे द्वारा मेघनगर शहर की जगह अन्य छोटे ग्रामीण क्षेत्र के रेलवे स्टेशन को भी चुना जा सकता था !