THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Monday, May 11, 2020

Tcs

कोरोना योद्धा के रूप में इंदौर से  वैक्सीन लाने की सेवा देते हुएसं कोरोनाक्रमित मरीज के संपर्क में आने से हुसैन अली की  तबीयत बिगड़ी थी 

रहीम शेरानी
झाबुआ,11 May 2020
कोरोना संक्रमित मरीज के संपर्क में आ गए हुसैन अली
एक सकारात्मक दूसरा रूप भी कोरोना यौद्धा के रूप में इंदौर से वेक्सीन लाने की सेवाएं देते हुए कोरोना संक्रमित हुए, परिवार के कुछ सदस्यों को भी है सर्दी-जुखाम बुखार की शिकायत
www.thecurrentscenario.com
परिवार के 11 सदस्यां का सेंपल लेकर किया गया आईसोलेट, जिला टीकाकरण शाखा के 4 कर्मचारियों के भी सेंपल जांच हेतु एमडीएम इंदौर भेजे गए
 मारूति नगर में स्वास्थ्य विभाग ने 255 घरों में 1301 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की
झाबुआ 10 मई, रविवार रात करीब 11. 30 बजे महात्मा गांधी ममोरियल कॉलेज इंदौर से मप्र के जो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की सूची आई, उसमे झाबुआ जिले से एक बुरी खबर सामने आई।
www.thecurrentscenario.com
जिसमें जिला मुख्यालय झाबुआ से ही मारूति नगर निवासी हुसैन अली नामक व्यक्ति को कोरोना संक्रमित बताया गया।
दरअसल हुसैन अली स्वास्थ्य विभाग के शासकीय टीकाकरण वाहन के चालक है और वे कोरोना यौद्धा के रूप में अपनी सेवाएं देते हुए उनका कार्य इंदौर से टीके (वेक्सीन) लाने का होता है।
इमरजेंसी सेवाओं के रूप में हुसैन अली भी देश में लॉकडाउन के दौरान कई बार इंदौर वेक्सीन लेने के लिए गए।
बताया जाता है कि इसी के चलते विगत 9 मई को जब उनका स्वास्थ्य अधिक बिगड़ा और उन्हें सर्दी-जुखाम एवं तेज बुखार की शिकायत होने पर जब जिला चिकित्सालय के आईसोलेषन वार्ड में ही भर्ती कर उनका उपचार जारी था।
इसी बीच 10 मई की रात उनकी एमडीएम कॉलेज इंदौर से आई रिपोर्ट में जब वे कोरोना पॉजीटिव पाए गए, तो शहर में जैसे अत्यधिक भय का माहौल पैदा हो गया।
 रात्रि मे हीं जिला कलेक्टर प्रबल सिपाहा ने मारूति नगर को कंटेनमेंट एरिया घोषित करते हुए मारूति नगर के सभी प्रवेश मार्गों को पूरी तरह से सील कर दिया। मौके पर स्वयं रात्रि में जिला कलेक्टर श्री सिपाहा के साथ एसडीएम डॉ. अभय सिंह खराड़ी, जिले के पुलिस कप्तान विनीत जैन आदि भी पहुंचे।
कोरोना यौद्धा के रूप में सेवाएं देते हुए कोरोना का शिकार हुए हुसैन भाई
जब हमने इस संबंध में सर्वप्रथम जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. राहुल गणावा से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि हुसैनी अली पिछले लंबे समय से शासकीय टीकाकारण का वाहन चलाते आ रहे है।
वर्तमान में पिछले डेढ़ महीने से भी अधिक समय से जिले में लगे लॉकडाउन के बीच एक अति आवष्यक सेवा के रूप जिले के विकासखंडों के गांवों में जाकर गर्भवती माताओ और बच्चों को समय-समय पर टीका लगाना जाना भी आवष्यक है। उक्त कार्य लॉकडाउन में भी सावधानी और सुरक्षा के साथ जिला टीकाकरण विभाग जिले के कल्याणपुरा, रानापुर, मेघनगर, रामा, पेटलावद, थांदला आदि क्षेत्रों में बखूबी कर रहा है। जिसका टीका (वेक्सीन) लाने का कार्य पिछले डेढ़ महीने से टीकाकरण वाहन के शासकीय चालक हुसैनी अली इंदौर के रिजनल वेक्सीन स्टोर से कर रहे थे। बकायदा वे एक अति आवष्यक सेवा के रूप में स्वास्थ्य विभाग के इस वाहन में इमरजेंसी पास के साथ इंदौर जाते थे और वे इतने अधिक मेहनती है कि स्वयं अकेले ही इंदौर जाकर स्टोर से वेक्सीन की पेटियां उठाकर वाहन में रखकर सुरक्षित उसे जिला टीकाकरण विभाग में लाने का कार्य करते है।
इंदौर रेड झोन में होने से किसी कोरोना संक्रमित मरीज के संपर्क में आ गए
चूंकि वर्तमान में इंदौर रेड जोन होकर यहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1700 से अधिक है, संभवतः  इसी के चलते वे किसी कोरोना संक्रमित मरीज के संपर्क में आने से बीती 6 मई से जब उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगा, तो तत्काल जिला टीकाकरण विभाग ने उन्हें इस कार्य से रोकते हुए कुछ दिनों के लिए घर पर रहने और बाद  में सर्दी-जुखाम और बुखार ओर अधिक बढ़ने पर उन्हें गत 9 मई को जिला चिकित्सालय में होम आईसोलेट भी किया गया। 10 मई की रात उनकी रिपोर्ट पॉजीटिव आई।

परिवार में है 13 सदस्य, 11 के सेंपल लेकर जांच हेतु भेजे, आईसोलेट किया
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बीएस बारिया ने जानकारी देते हुए हुसैन अली की रात्रि. में कोरोना पॉजीटिव रिपोर्ट आने के बाद स्वासथ्य विभाग के अमले द्वारा तत्काल उनके निवास पर जाकर सूचना चस्पा करने के साथ अगले दिन 11 मई को उनके घर में एक ही परिवार के 13 सदस्यों में से 11 के सैपंल लिए गए। वर्तमान में परिवार के कुछ सदस्यों को भी सर्दी-जुखाम, बुखार की षिकायत है। यह ज्ञात हुआ है कि हुसैनी अली का पुत्र एवं उनकी बहू मोलाना आजाद मार्ग में कियोस्ट सेंटर भी चलाते है। जहां प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों की बैंकों के खाता खुलवाने और पैसा जमा करवाने आदि हेतु लंबी लाईन लगती है। जिसे भी फिलहाल सुरक्षा की दृष्टि से बंद करवाया गया है। परिवार के जिन सदस्यों को सर्दी-जुखाम, बुखार की षिकायत है, उन्हें आईसोलेट करने के साथ परिवार एवं रिष्तेदारों को भी होम क्वारेंटाईन करने की कार्रवाई जारी है।
जिला टीकाकरण शाखा के 4 लोगों के सेंपल भेजे
चूंकि हुसैन अली जिला टीकाकरण विभाग का वाहन चलाते थे और इंदौर से वेक्सी नलाकर लौटने के बाद निष्चित तौर पर विभाग के अन्य कर्मचारियों से भी मिलते थे। उनमे ंभी कोरोना का संक्रमण ना फैले, इस इेतु वाहन चालक के अधिक संपर्क में आए विभाग के ऐसे 4 कर्मचारियों के भी सेंपल लेकर जांच हेतु इंदौर भिजवाएं गए है। मिली जानकरी के अनुसार इसके अलावा भी जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियें उक्त वाहन चालक से पिछले एक सप्ताह के अंदर जो भी स्वास्थ्य विभाग के ही लोग एवं मारूति नगर के रहवासी संपर्क में आए है, उन्हें भी होम क्वारेंटाईन करते हुए उन्हें आवष्यक ऐहतियात बरतने की हिदायत दी गई।
मारूति नगर में 255 घरों में 1301 लोगों की स्क्रीनिंग की गई
इसी बीच 11 मई, सोमवार को स्वास्थ्य विभाग के अमले ने मारूति नगर क्षेत्र पहुचंकर यहां करीब 255 घरों में दस्तक देते हुए 1301 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की एवं उन्हें सुरक्षा तथा आवष्यक ऐहतियात बरतने की समझाईष भी दी गई। जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले की जनता से जिल में 2 कोरोना मरीज आने के बाद विषेष सावधानी बरतने की अपील जारी करते हुए कहा है कि लॉकडाउन में लोग अपने घरों पर ही रहे। अनावष्यक घरों से बाहर ना निकले। जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर निकलने पर मुंह पर मास्क अनिवार्य रूप से पहने। धर से निकलने एवं घर पहुंचने के बाद अपने हाथों को सेनेटाईज करने के साथ दिन में 3-4 बार साबुन और पानी से हाथां को अच्छे से धोएं। पोष्टीक आहार का सेवन करे। खान-पान में विषेष ध्यान रखे। विषेषकर घर-परिवार में बच्चों और बुजुर्गों का ध्यान रखते हुए उन्हें घरों से बाहर नहीं निकलने दिया जाए। अपने मोबाईल में गूगल प्ले स्टोर से भारत सरकार आयुष मंत्रालय द्वारा अधिकृत एप आरोग्य सेतु डाउनलोड कर अपने स्वयं की जांच करने के साथ आसपास कोरोना संदिग्ध मरीज होने पर अपने आपको सुरक्षित करे। जरूरत पड़ने पर भारत सरकार एवं मप्र सरकार के हेल्प लाईन नंबर पर भी कॉल कर आवष्यक मद्द और स्वास्थ्य लाभ लिया जा सकता है।
पेटलावद से मिली पहली कोरोना पॉजीटीव युवती की हालत में फिलहाल सुधार
सीएचमएचओ डॉ. बीएस बारिया ने बताया कि झाबुआ जिले में जो पहली कोरोना संक्रमित मरीज के रूप में  पेटलावद के नाहरपुरा ग्राम की सजनाबाई उम्र करीब 21 वर्ष सामने आई थी, जो राजस्थान से दाहोद निवासी एक कोरोना संक्रमित बस परिचालक के साथ अपने गांव लौटी थी। वह भी फिलहाल जिला चिकित्सालय के आईसोलेषन वार्ड में भर्ती है। उसके स्वास्थ्य में काफी सुधार है। जिसे देखते हुए एक बार फिर उक्त युवती की रिपोर्ट जांच हेतु एमडीएम कॉेलेज इंदौर भिजवाई जाएगी। यदि रिपोर्ट नेगेटिव आती है, तो 7 दिन तक समुचित उपचार के बाद युवती को छुट्टी दे दी जाएगी। 
12 मई को भेजे जाएंगे 30 नए सेंपल
- झाबुआ जिले में अब तक 2 कोरोना संक्रमित मरीजांं की पुष्टि हो चकी है। दूसरे संक्रमित मरीज से जो लोग संपर्क में आए है, जिसमें विषेषकर उनके परिवार के सदस्यों के अलावा कुल अलग-अलग 30 सेंपल जांच हेतु 12 मई, मंगलवार को इंदौर एमडीएम कॉलेज भेजे जाएंगे। रिपोर्ट के बाद अगला खुलासा हो सकेगा।
डॉ. बीएस बारिया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी झाबुआ।
फोटो 001 -ः कोरोना वायरस (कोविड-19)।
फोटो 002 -ः शहर के मारूति नगर निवासी शासकीय टीकाकरण वाहन के चालक हुसैन अली।