THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Tuesday, May 19, 2020

TCS

दबंगों व मिट्टी माफियाओं की मिली भगत से मनरेगा मजदूरों के पेट पर  लात मारकर जे सी बी से खुदवाया जा रहा तालाब ग्राम प्रधान व लेखपाल बने अनजान

ग्राम प्रधान की सूचना के बाद भी नही चेत रहा जिम्मेदार महकमा अधिकारी बने उदासीन

भूपेंद्र सिंह✍️
सेमरी बाजार,सुलतानपुर,20 May 2020
सरकार एक तरफ जहां भूंखे और गरीब तबके के लोंगो को मनरेगा के तहत लॉक डाउन में भी रोजगार मुहैया करा रही है वही इन गरीब और असहाय लोंगो के पेट पर लात मारकर हल्का लेखपाल और दलालो की मिली भगत से अबैध ढंग से तालाब की खुदाई जे सी बी से करवा कर सिक्सलेन के ठेकेदार को देकर मोटी रकम कमाई जा रही है और सरकार की मंशा पर पानी फेराजा रहा है अब तक कई हजार घन फुट मिट्टी की हो चुकी कालाबाजारी।
www.thecurrentscenario.com
 मामला जयसिंहपुर क्षेत्र के बाहरपुर ग्राम पंचायत के कटका गांव का है, जहां पर जेसीबी से  देंनावर तालाब की खुदाई की जा रही है।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मिट्टी माफियाओं और दलालो की मिली भगत से  जेसीबी से तलाब की खुदाई करवाई जा रही है और खोदी गई तालाब की मिट्टी को पूर्वांचल एक्सप्रेस वे  निर्माण के लिए उपयोग किया जा रहा है जबकि सरकार ने मनरेगा मजदूरो से तालाब की खुदाई करवाने की गाइड लाइन जारी की है।
www.thecurrentscenario.com
वही ग्राम प्रधान महंथराम से इस संबंध में जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि मैं भी तालाब की खुदवाई करा रहे लोंगो से जानकारी करने तालाब पर गया और जब पूंछा की किसकी परमीशन से आप तालाब खुदवा रहे है तो वो लोग न तो कोई परमीशन दिखा पाए और न ही काम बन्द किया। मैंने इसकी सूचना तुरंत अपने मोबाइल से उच्चाधिकारियों को कराया किन्तु सभी उदासीन ही बने रहे। उदासीनता के चलते मैंने इसकी लिखित शिकायत उपजिलाधिकारी जयसिंहपुर को रजिस्टर्ड पोस्ट से कर दी है लेकिन उनके यहां से भी निराशा हाथ लगी।

इस बावत उपजिलाधिकारी जयसिंहपुर राम अवतार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि सिक्सलेन के लिए तालाब से मिट्टी निकालने के लिए हमारे यहां से इसकी परमीशन नही बनती है इसकी परमीशन जिले स्तर से बनती है हमारे यहां से ग्राम सभा के जो  तालाब खुदवाने योग्य है व  जो ग्राम सभा से नही खुदवाये गए ऐसे कुछ तालाबो की जो रिपोर्ट हल्का लेखपाल व प्रधान  लोग जो लिस्ट देते है उसे हम संस्तुति कर जिले भेज देते है जहाँ से यह आदेश होता है कि खाली तालाब से कितनी गहरी मिट्टी निकाली जाय ।।

   तालाब से मिट्टी की खुदाई करा रहे लोग किसी प्रकार की परमिशन अभी तक ग्राम प्रधान को नही दिखा रहे है व लगातार एक सप्ताह से अधिक समय से रात दिन मिट्टी की खुदाई कर रहे है ।।

     डंफरो से लगातार मिट्टी की ढुलाई की वजह से गॉव का सम्पर्क मार्ग भी जर्जर होता जा रहा है जिससे सायकिल व अन्य छोटे बाहन  लिंक मार्ग पर नही चल पा रहे है जिसकी वजह से ग्रामीणों में भी रोष व्याप्त हो रहा है ।