THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Friday, May 8, 2020

TCS

औरंगाबाद रेल हादसा,16 मजदूरों की मौत पर  PM ने जताया दुख,
मुख्यमंत्री शिवराज ने किया 5-5 लाख रुपये देने का ऐलान


मजदूर भाई चिंता न करें उनकी सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करेंगे,
धैर्य रखें, पैदल न चलें, कंट्रोल रूम से संपर्क करें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दूसरे राज्यों में फंसे मध्यप्रदेश के मजदूरों से की अपील


रहीम शेरानी
भोपाल,08 May 2020
मुख्यमंत्री श्री शिराजसिंह चौहान ने दूसरे प्रदेशों में फंसे मध्यप्रदेश के मजदूरों से अपील की है कि वे चिंता न करें।
 उनकी मध्यप्रदेश सुरक्षित वापसी सुनिश्चित की जाएगी।
 वे धैर्य रखें, पैदल न चलें तथा प्रदेश के कंट्रोल रूम पर संपर्क कर अपनी जानकारी दें।
www.thecurrentscenario.com
 हम आपको प्रदेश वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि विभिन्न प्रदेशों में फंसे मध्यप्रदेश के एक लाख 25 हज़ार मजदूरों को प्रदेश वापस लाया गया है।
उन्हें लाने के लिए विशेष ट्रेनों की व्यवस्था की गई है।
 ग्यारह ट्रेन मजदूरों को लेकर मध्यप्रदेश आ गई हैं, कल 10 ट्रेन आ जाएंगी तथा अन्य 40 ट्रेनें भी तैयार हैं।
वे निर्धारित कार्यक्रमानुसार विभिन्न प्रदेशों से मजदूरों को लेकर मध्यप्रदेश आएंगी।
मजदूरों को आने का कोई किराया नहीं चुकाना है। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा रेल का किराया भारत सरकार को दिया जा रहा है।
www.thecurrentscenario.com
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अन्य प्रांतों में फंसे मजदूर भाई हमारे कंट्रोल रूम 0755-2411180 पर सूचना दें तथा रजिस्ट्रेशन कराएं और इंतजार करें।
शीघ्र ही आपको मध्य प्रदेश वापस लाने की व्यवस्था की जाएगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि महाराष्ट्र में हुई दुर्घटना से मन अत्यंत व्यथित एवं दु:खी हुआ है। हमारे 16 मजदूर भाई पैदल चल कर वापस आ रहे थे तथा रेलवे ट्रैक पर सो गए।
रेल हादसे में उनकी मृत्यु अत्यंत दुखद है।
सरकार ने मंत्री सुश्री मीना सिंह को अधिकारियों की टीम के साथ औरंगाबाद तुरंत भिजवाया है।
 वे वहां जाकर सारी व्यवस्थाएं कर रही हैं। दिवंगत मजदूरों के परिवारों को 5-5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जा रही है तथा रेल मंत्री से भी उन्हें सहायता देने का आग्रह किया गया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से चर्चा कर अन्य व्यवस्थाएं की जा रही हैं। दिवंगत मजदूरों के पार्थिव शरीर को ट्रेन के माध्यम से जबलपुर लाया जाएगा तथा वहां से उनके घरों को भिजवाया जाएगा।