THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Wednesday, May 13, 2020

Burhanpur

जिला कांग्रेस कमेटी बुरहानपुर के अध्यक्ष ने शाह बाजार की महिलाओं पर केस दर्ज होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया         
   
ब्यूरोचीफ महेलका अंसारी    
बुरहानपुर,14 May 2020
जिला कांग्रेस कमेटी बुरहानपुर के अध्यक्ष अजय सिंह रघुवंशी ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपना एक वीडियो जारी करते हुए शाह बाजार की महिलाओं पर एवं दाऊदपूरा के कुछ लोगों पर जिला प्रशासन द्वारा केस दर्ज करने को दुर्भाग्यपूर्ण और मानवता के खिलाफ बताया है। उन्होंने इसे जिला प्रशासन के दोहरे रवैए से प्रतिपादित किया।  अपने वीडियो संदेश में जिला कांग्रेस कमेटी बुरहानपुर के अध्यक्ष श्री अजय सिंह रघुवंशी ने कहा कि आज बुरहानपुर में 35 कोरोना पॉजिटिव आना अपने आप में एक दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अपने अपने घर में रहे और सुरक्षित रहें साथ ही जो लोग इन मरीजों के या  दूसरे मरीजों के  संपर्क में आए हो तो वह स्वयं अपने आपकी जांच कराने के लिए आगे आए । अपने संबोधन को जारी रखते हुए उन्होंने पुलिस प्रशासन द्वारा महिलाओं की गिरफ्तारी ऊपर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि प्रशासन दोहरा रवैया अपना रहा है। उन्होंने कहा कि शाह बाजार में महिलाओं के घर  राशन नहीं था, इस कारण महिलाएं शाह बाज़ार से निकलकर कमल टॉकीज के पास आकर एकत्रित हुई। जिस पर प्रशासन ने उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया।  2 महीने के लॉक डाउन से और 12 दिन के कर्फ्यू से महिलाएं त्रस्त थी। महिलाओं के विरोध प्रदर्शन के बाद उनके घरों में खाने के पकेट्स की व्यवस्था प्रशासन द्वारा की गई। जिसके लिए प्रशासन बधाई का पात्र है। जिला कांग्रेस कमेटी बुरहानपुर के अध्यक्ष अजय सिंह रघुवंशी ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश के बच्चों के मामा हैं और अपनी बहनों पर ही लाक डॉउन में केस दर्ज होना शर्मनाक है। यह मानवता के खिलाफ है। दाऊद पुरा वार्ड के पूर्व पार्षद के परिवार के लोगों पर केस दर्ज होने को भी उन्होंने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। और प्रश्न किया कि मरीजों को विदा करने के लिए जो जनप्रतिनिधि और अधिकारीगण वहां एकत्रित हुए थे, 13 स्वस्थ हुए मरीजों को पैदल रवाना किया गया जबकि उन्हें शासन की गाड़ी से रवाना करने की व्यवस्था की जा ना थी। और जब वे लोग वहां पहुंचे तो उन पर इस दर्ज करना भी दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने प्रश्न किया कि स्वस्थ हुए मरीजों को विदा करने के लिए वहां जमा हुए जनप्रतिनिधि किस हैसियत से हुए थे ? उन्हों ने जिला प्रशासन पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप भी लगाया। उन्हों ने शासन से शाह बाजार और दाऊद पुरा के लोगों पर जो प्रकरण दर्ज हुआ है उन्हें वापस लेने की मांग करते हुए उन्होंने जनता से अपील की कि वे लाक डॉउन का पालन करें और घर में सुरक्षित रहें।