THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Wednesday, April 15, 2020

World

जनरल सुलैमानी को मारकर अमरीका को कुछ हाथ नहीं लगाः अंसारुल्लाह

Sajjad Ali Nayane
16 April 2020
यमन के जनांदोलन अंसारुल्लाह का कहना है कि जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या करके भी अमरीका कुछ हासिल नहीं कर सका।यमन के जनांदोलन अंसारुल्लाह के राजनैतिक कार्यालय के सदस्य ने कहा है कि आईआरजीसी की क़ुद्स ब्रिगेड के कमान्डर जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या करके अमरीका अपने लक्ष्य में सफल नहीं हो सका।अंसारुल्लाह के राजनैतिक कार्यालय
www.thecurrentscenario.com
के सदस्य मुहम्मद अलबुख़ैती ने अलमयादीन टीवी से बात करते हुए कहा कि आईआरजीसी की क़ुद्स ब्रिगेड के कमान्डर जनरल क़ासिम सुलैमानी और इराक़ी स्वयं सेवी बल अलहश्दुश्शाबी के उप कमान्डर अबू महदी अलमुहन्दिस की अमरीकी आतंकवादियों के हाथों हत्या के बाद इराक़ में अमरीकी सैनिकों की उपस्थिति ख़तरे में पड़ गयी है।
उन्होंने सीरिया और यमन में प्रतिरोधकर्ता गुटों को प्राप्त होने वाली महत्वपूर्ण सफलताओं की ओर संकेत करते हुए कहा कि यद्यपि हमने अपने दो महत्वपूर्ण कमान्डर खो दिए किन्तु उनकी हत्या करके अमरीका अपने लक्ष्य में सफल नहीं हुआ। 
दूसरी ओर यमन में युद्ध विराम के दावों के बावजूद यमन के विभिन्न क्षेत्रों पर सऊदी युद्धक विमानों के हमले यथावत जारी हैं। 
यमन की सशस्त्र सेना के प्रवक्ता यहिया सरी ने सूचना दी है कि सऊदी गठबंधन के युद्धक विमानों ने तीन के तीन प्रांतों सादा, मआरिकब और अलजौफ़ पर 26 बार हमले किए।सऊदी गठबंधन के प्रवक्ता तुर्की अलमालेकी ने गुरुवार को यमन में युद्ध विराम की घोषणा की थी किन्तु युद्ध विराम की घोषणा के कुछ घंटे बाद ही सऊदी गठबंधन ने युद्ध विराम की धज्जियां उड़ा दीं।
यमनियों ने सऊदी गठबंधन की ओर से संघर्ष विराम के एलान के समय ही इसे सऊदियों की अपनी फ़ोर्सेज़ को फिर से संगठित करने की चाल बताया था।
यमन पर सऊदी गठबंधन के 26 मार्च 2015 से हमले जारी हैं। इस गठबंधन ने यमन की ज़मीनी, हवाई और समुद्री नाकाबंदी कर रखी है। यमन पर सऊदी गठबंधन के हमलों में अब तक 16 हज़ार से ज़्यादा यमनी हताहत, दसियों हज़ार घायल और दसियों लाख बेघर हुए हैं।
यमनी जनता के कड़े प्रतिरोध की वजह से सऊदी गठबंधन यमन में अपना कोई भी लक्ष्य साधने में सफल न हीं हो पाया।

सऊदी हमले की वजह से यमन में खाद्य पदार्थ  और दवाओं की कमी का संकट पैदा हो गया है।