THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Tuesday, April 21, 2020

World

कोरोना से संक्रमित तेल बाज़ार की हालत गंभीर, रिकॉर्ड 15 डॉलर प्रति बैरल तक गिर गए दाम

Sajjad Ali Nayane
21 April 2020
विश्व में कच्चे तेल की मांग में भारी कमी और भंडारणों के भर जाने की वजह से तेल की क़ीमतों में पिछले दो दशकों में सबसे अधिक गिरावट दर्ज की गई है।
कोविड-19 महामारी के कारण अधिकांश देशों में लॉकडाउन जारी है, जिसकी वजह से तेल के दाम रिकार्ड 15 डॉलर प्रति बैरल तक गिर गए हैं।
इसके अलावा, अधिकांश देशों में तेल के भंडार छलक रहे हैं और उनके पास इससे अधिक तेल स्टोर करने की क्षमता नहीं है।वास्तव में स्थिति इतनी ख़राब है कि सरकारें तेल का उत्पादन रोकने के लिए तेल उत्पादकों को भुगतान करने पर भी विचार कर रही हैं।
www.thecurrentscenario.com
इसी बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी ने घरेलू कच्चे तेल की आपूर्ति में 19 मिलियन बैरल की वृद्धि दर्ज की थी।
ओपेक भी इस बीमार उद्योग के लिए कोई नुस्ख़ा नहीं खोज पा रहा है। जबकि ओपेक और उसके वैश्विक साझेदार 9.7 मिलियन बैरल प्रति दिन की कटौती करने पर सहमत हो गए हैं, लेकिन बाज़ार स्पष्ट रूप से यह संकेत दे रहा है कि यह कटौती पर्याप्त नहीं है।
वंदना इनसाइट्स की संस्थापक वंदना हरी तेल बाज़ार की विशेषज्ञ हैं। उनका मानना है कि मौजूदा क़ीमतों से पता चलता है कि ओपेक+ द्वारा की गई कटौती सिर्फ़ एक शोर-शराबा साबित हुई। तेल के दामों का दारो मदार वायरस की दया पर निर्भर है। जब तक अमरीका में लॉकडाउन नहीं उठाया जाता है क़ीमत इससे भी नीचे गिर सकती है या इसी रेंज में बनी रहेगी।