THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Saturday, April 18, 2020

Burhanpur

लाक डाउन में बुरहानपुर केमिस्ट एवं ड्रागिस्ट एसोसिएशन हुई लकवा ग्रस्त       

मेहलक़ा  अंसारी
बुरहानपुर,28 April 2020
बुरहानपुर केमिस्ट एवं  ड्रगिस्ट एसोसिएशन एक सक्रिय संस्था रही है एवं औषधि प्रशासन से जुड़े समस्त दवा विक्रेताओं के हितों की रक्षा करने में उसने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है । लेकिन लाक डाउन में शायद यह संस्था को लकवा लग गया है और संस्था लकवा ग्रस्त हुई प्रतीत होती है। इस एसोसिएशन के मुख्य कर्ताधर्ता लोग जहां बुरहानपुर में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी को निभा रहे हैं वही बुरहानपुर का नाम रोशन करके प्रदेश का नेतृत्व भी बुरहानपुर के पदाधिकारियों को करने का अवसर प्राप्त हुआ है, लेकिन इसके पदाधिकारी लाक डाउन की इस अवधि में अपने सदस्यों के लिए पास की व्यवस्था करने में असफल रहे हैं। इसके पदाधिकारियों पर अपने स्वार्थ के लिए इस संगठन के बैनर का उपयोग करने का आरोप भी लगा है। महत्वपूर्ण पदाधिकारियों ने अपने पद एवं अधिकारों का उपयोग कर विहित अधिकारियों से पास बनवा कर इंदौर से ट्रक भर भर के दवाइयां मंगवा कर अपने हितों के लिए स्टॉक कर ली, वही अपने सदस्यों के हितों की रक्षा के लिए कुछ नहीं कर पाने  के कारण एवं जिला प्रशासन के सामने नतमस्तक होने के कारण इस संगठन से जुड़े सदस्य अपने आप को असहाय एवं लावारिस महसूस कर रहे हैं, जिसके कारण इस संगठन के पदाधिकारियों की कार्यशैली पर जहां प्रश्न चिन्ह लगा है, वहीं इस एसोसिएशन के कुछ सदस्यों ने अपनी नाराजगी भी प्रकट की है। इस अवधि में एलोपैथिक सहित समस्त भारतीय चिकित्सा पद्धति की मेडिकल दुकानों को खोलना था, लेकिन इस अवधि में केवल एलोपैथिक दवा की दुकानों को खुलने की अनुमति प्राप्त हुई थी । भारतीय चिकित्सा पद्धति के अंतर्गत औषधि प्रशासन के अधीन पंजीकृत अन्य पैथी की दुकानें लाक डॉउन में बंद रखी गई, किंतु अपने सदस्यों के हितों एवं प्रजातांत्रिक अधिकारों की अभी रक्षा के लिए संगठन ने कोई ठोस कदम उठाने से अथवा प्रशासन के समक्ष अपना मजबूत पक्ष या रिप्रेजेंटेशन प्रस्तुत करने में एसोसिएशन पूर्णता असफल रही, जब के प्रदेश के मुखिया सहित भारत के प्रधानमंत्री भारतीय चिकित्सा पद्धति की चिकित्सा पद्धति को इस अवधि में अपनाने के लिए जनता को शासकीय विज्ञापनों एवं समाचार पत्रों के माध्यम से  निरंतर जागरूक करते रहे। लाक डाउन में इस संगठन के पदाधिकारियों की भूमिका की समीक्षा नितांत आवश्यक प्रतीत होती है।