THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Monday, April 13, 2020

Burhanpur

बुरहानपुर मप्र के पावर लूम बुनकरों,मज़दूरों की आर्थिक सहायता करने सहित अन्य मांगों के लिए पावर लूम बुनकर संघ बुरहानपुर के अध्यक्ष रियाज अहमद अंसारी एडवोकेट में भारत के प्रधानमंत्री एवं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

मेहलका अंसारी
बुरहानपुर,13 April 2020
मध्य प्रदेश के पावर लूम बुनकरों एवं मजदूरों को आर्थिक सहायता एवम 2 माह का बिजली बिल माफ करने एवम  बुरहानपुर के टेक्सटाइल्स उधोग को बचाने एवम बुनकरों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए किसानों की भांति बिजली बिल  300/₹ प्रति लुम फिक्स  रेट करने या बिजली बिल में सब्सिटी की रियायत करने बाबत हेतु पावर लूम बुनकर संघ बुरहानपुर के अध्यक्ष रियाज अहमद अंसारी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पत्र प्रेषित किया है। एडवोकेट रियाज अंसारी ने उक्त पत्र माननीय प्रधानमंत्री को एवं माननीय मुख्यमंत्री को ईमेल के माध्यम से प्रेषित किया है । पावर लूम बुनकरों एवं मजदूरों की समस्याओं को लेकर पावर लूम बुनकर संघ बुरहानपुर के अध्यक्ष एडवोकेट रियाज अंसारी ने जो पत्र प्रेषित किया है वह निम्न बिंदुओं पर आधारित है:-
(1)बुरहानपुर मप्र पावरलूम की घरेलू सनत(कुटीर उद्योग) है जहाँ  55000 हज़ार पावरलूम हैं। बुनकर घरों में 6 से 8 पावरलूम लगाकर बीवी बच्चो के साथ रोज़ी रोटी कमा कर अपना व परिवार का पेठ भरता है, जिस पर बुरहानपुर की  450000 की आबादी का कुल 70% जनता पावरलूम पर आश्रित है,जो रोज़ाना कमाता खाता है।
(2)  बुरहानपुर कोरोना के चलते    शहर लोक डाउन के कारण बुनकरों की  आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई है। वह बिजली बिल भी नही भर पा रहा है । विधुत मंडल द्वारा बिजली की लाइनें काटी जारही है ।
(3)बुनकरों से बिल में मन मानी वसूली की जारही है, जो इस प्रकार है:-  न्यूनतम प्रभार4.61 ₹ प्रति यूनिट, नियत प्रभार HP हॉर्स पावर चार्ज 222/Rs, ऊर्जा प्रभार 9%, ईधन प्रभार 0.10पैसे%विद्धुत शुल्क 9%, मीटर किराया 125/₹, पावर फेक्टर चार्ज 10% ,सुरक्षा निधि साल में 3 माह वसूल होती है अन्य चार्जेज लगाकर बिजली बिल वसूला जारहा है।
(4)  दिनाक 22.3.20 से जनता कर्फ्यू लगने के बाद से बुनकर के सामने रोज़ी रोटी की समस्या खडी हो गई है।  पावरलूम बन्द होने के कारण बुनकर भुकमरी का शिकार हो रहा है। बुनकरों  की आर्थिक स्थिति बहुत  खराब है। बुनकर और मज़दूर को शासन द्वारा कोई आर्थिक सहायता नही दी जारही है।
(5) बुनकरों का 2 माह का बिजली बिल माफ किया जाना बुनकरों को जीवन दान देगा ।                  (6) बुनकरों को किसानों की तरह 300/Rs फ़िक्स रेट बिजली बिल किया जाना बुनकरों को जीवनदान देगा।
(7) बुनकरों के बिजली बिल में 2 ₹ प्रति यूनिट सब्सिटी में रियायत दी जाकर बुनकरों  को ज़िंदा रखा  जा सकता है।
(8)  बुरहानपुर कोरोना संक्रमणों से पीड़ित नही है ।फिर भी शासन/प्रशासन के आदेश से यहाँ पर पावरलूम बन्द है, जो बुनकरो के सामने रोज़ी रोटी की समस्या पैदा करता है।           (9) बुनकर घरों में रहकर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए केवल अपने परिवार के लोगों को साथ लेकर रोज़ी रोटी कमाता है ।
अतः निवेदन है कि बुरहानपुर मप्र का बिजली बिल अन्य राज्य की तुलना में बहुत अधिक है। इंदिरा सागर बिजली परियोजना के रहते हुए बुरहानपुर बुनकरों को महंगी बिजली दर से बिजली बिल का भुगतान करना पड़ रहा है । इन तमाम बिन्दुओ पर गौर करते हुए पावरलूम बुनकरों का 2 माह का बिजली बिल माफ करते हुए किसानों की तरह फलैट रैट 300/₹ प्रति लुम बिजली बिल दिया जाए । साथ ही साथ आर्थिक सहायता देकर नया जीवन दान देने की कृपा करें । क्षेत्रीय सांसद एवं क्षेत्रीय विधायक बुनकरों के हितेषी हैं ।  यदि दोनों निर्वाचित जनप्रतिनिधि  बुनकरों की समस्याओं को प्रभावी ढंग से सदन में उठाएंगे एवं प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करेंगे तो देश की वर्तमान लाक डाउन की परिस्थितियों में बुरहानपुर के बुनकरों को विशेष पैकेज मिल सकता है जो पावर लूम बुनकरों को जीवनदान प्रदान करेगा। आशा है कि हमारे सम्माननीय निर्वाचित जनप्रतिनिधि भी इस मामले में रुचि लेकर आवश्यक हस्तक्षेप करेंगे ।