THE CURRENT SCENARIO

Advertisement

BREAKING

BSE-SENSEX:: 59,015.89 −125.27 (0.21%) :: :: NSE :: Nifty:: 17,585.15 −44.35 (0.25%)_ ::US$_:: 73.55 Indian Rupee_.

Wednesday, November 20, 2019

Subversive elements tried to implement the plan of enemies against Iran in a planned way: spiritual

विध्वंसकारी तत्वों ने सुनियोजित ढंग से ईरान के विरुद्ध शत्रुओं की योजना को लागू करने के प्रयास कियेः रूहानी

21-Nov-2019
Friday World
Sajjad Ali Nayani
राष्ट्रपति रूहानी ने कहा है कि देश में ईंधन के प्रयोग को कंट्रोल करने की योजना को लागू करने के बाद सशस्त्र उपद्रवियों ने सुनियोजित ढंग से ईरान के विरुद्ध अमरीकी, ज़ायोनी और क्षेत्र के रूढ़ीवादियों की योजना को लागू करने के प्रयास किये।
डाक्टर हसन रूहानी ने बुधवार को मंत्रीमण्डल की बैठक के दौरान इस ओर संकेत किया कि ईरानी जनता ऐतिहासिक परीक्षाओं में सफल रही है।  उन्होंने कहा कि जिन्होंने इस्लामी शासन व्यवस्था को चोट पहुंचाने के लिए योजनाएं बनाई हैं उन्होंने पिछले दो वर्षों के दौरान नए प्रतिबंधों और अधिक से अधिक दबाव की नीति लागू करके ईरानी जनता को झुकाने के लिए मजबूर किया।  राष्ट्रपति रूहानी का कहना था कि ईरानी जनता ने इस बार भी होशियारी से इस षडयंत्र को विफल बना दिया।
TCS

डा. हसन रूहानी ने इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता और जनता की सराहना करते हुए कहा कि आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने अपने दूरदर्शितापूर्ण बयानों से ईरानी जनता का मार्गदर्शन किया और उसको वास्तविकता बताई।  राष्ट्रपति ने इस ओर संकेत करते हुए कि यह ईरानी राष्ट्र के लिए बड़ी सफलता है कहा कि देश के विभिन्न नगरों में स्वेच्छा से ईरानी जनता की ओर से सरकार के समर्थन में किये जा रहे प्रदर्शन, यह सिद्ध करते हैं कि ईरानी जनता को इस्लामी शासन व्यवस्था से लगाव है।

डा. हसन रूहानी ने उपद्रवियों के हाथों शहीद होने वालों के परिजनों के प्रति सहानुभूति प्रकट करते हुए कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा एवं शांति को क्षति पहुंचाने वालों के साथ कड़ाई से निबटा जाएगा।

ज्ञात रहे कि देश में ईंधन के प्रयोग को कंट्रोल करने की योजना को लागू करने के बाद शुक्रवार से ईरान के कुछ लोगों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन आरंभ किये थे किंतु कुछ अवसरवादियों और सशस्त्र उपद्रवियों ने इनको इसके मुख्य मार्ग से हटाकर विध्वंसक एवं हिंसक कार्यवाहियां आरंभ कर दीं।

उल्लेखनीय है कि ईंधन के प्रयोग को कंट्रोल करने की योजना के लागू किये जाने के बाद उत्पन्न हुई स्थिति पर इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने रविवार को कहा था कि वास्तव के कुछ लोग इस योजना से चिंतित हैं किंतु तोड़-फोड़ और आग लगाने जैसे काम जनता के नहीं बल्कि शरारती तत्वों के हैं।